Home nation तमाम फायदे हैं पेट्रोल-डीजल की कीमत बढ़ने के

तमाम फायदे हैं पेट्रोल-डीजल की कीमत बढ़ने के

47
0
petrol and diesel prices in India
petrol and diesel prices in India

पेट्रोल डीजल के दामों में उतार और चढ़ाव कोई सामान्य आर्थिक घटना नहीं है। ईंधन के दाम बढ़ने के साथ जहां एक ओर तमाम देशों की पेट्रोलियम उत्पादन कंपनियों और तेल उद्योग को रिकार्ड लाभ होता है वहीं दूसरी और भारत जैसे विकासशील देशों के व्यापारिक घाटे में वृद्धि होने लगती है। इसके अलावा रुपये की कीमत में गिरावट और देश में महंगाई बढ़ने के साइड एफेक्ट अलग से वहन करने पड़ते हैं।

महंगा पेट्रोल मतलब मजबूत अर्थव्यवस्था

ऐसा नहीं है कि पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोतरी सिर्फ महंगाई, अवमूल्यन और घाटा ही लेकर आती है। इसके लाभ भी होते हैं। इसकी हानियां जहां प्रत्यक्ष दिखाई देती हैं वहीं होने वाले लाभों की प्रकृति अप्रत्यक्ष होती। जब दुनिया के देशों के लिए पेट्रोल के दाम बढ़ रहे होते हैं तो इसका अर्थ होता है कि उस दौर में दुनिया के कई देशों में पेट्रोल की मांग काफी ज्यादा होती है। यहा मांग इस वजह से ज्यादा होती है कि देशों में औद्योगिक उत्पादन में तेजी आ चुकी होती है। उत्पादन में तेजी का मतलब होता है लोगों को अधिक रोजगार मिल रहा होता है और रोजगार में बढ़ोतरी का मतलब होता है कि लोगों की आय बढ़ रही होती है। आय बढ़ने का अर्थ होता है कि बाजारों में उत्पादों की मांग ज्यादा होती है। और मांग बढ़ने का अर्थ है कि सरकार को उत्पादों पर लगने वाले अप्रत्यक्ष करों और इनकम टैक्स जैसे प्रत्यक्ष करों से आय ज्यादा हो रही है। और इसका मतलब होता है कि देशों की जीडीपी और राष्ट्रीय आय में भी बढ़ोतरी हो रही होती है।